अडाणी समूह का गुजरात में इस्पात संयंत्र लगाने के लिए पॉस्को के साथ समझौता

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on reddit
Share on pinterest
अडाणी समूह का गुजरात में इस्पात संयंत्र लगाने के लिए पॉस्को के साथ समझौता

नई दिल्ली। अडाणी समूह ने गुजरात में एक एकीकृत इस्पात संयंत्र लगाने और अन्य कारोबारी संभावनाओं की तलाश के लिए दक्षिण कोरियाई कंपनी पॉस्को के साथ पांच अरब डॉलर का प्रारंभिक समझौता किया है। दोनों कंपनियों ने 13 जनवरी को इस आशय के समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। यह एक गैर-बाध्यकारी करार है और इसके मूर्त रूप लेने की स्थिति में अडाणी समूह के लिए इस्पात क्षेत्र में कदम रखने का रास्ता साफ हो जाएगा। समझौते के बाद जारी संयुक्त बयान के मुताबिक, गुजरात के मूंदड़ा में हरित, पर्यावरण-अनुकूल एकीकृत इस्पात कारखाने की स्थापना और अन्य उद्यमों समेत व्यावसायिक सहयोग के अवसर तलाशने की सहमति जताई है। इसमें पांच अरब डॉलर तक का निवेश होने की संभावना है। वहीं पॉस्को के लिए यह भारत में इस्पात संयंत्र लगाने का पुराना सपना पूरा करने का एक अवसर है। पॉस्को को कुछ साल पहले ओडिशा में 12 अरब डॉलर की लागत से एक इस्पात संयंत्र लगाने की अपनी योजना से भूमि अधिग्रहण संबंधी विरोधों के बाद पीछे हटना पड़ा था।

अडाणी समूह और पॉस्को के बीच समझौता ज्ञापन पर गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल की मौजूदगी में हस्ताक्षर किए गए। राज्य के उद्योग विभाग और अडाणी समूह एवं पॉस्को के बीच इस समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। यह समझौता वाइब्रेंट गुजरात वैश्विक सम्मेलन 2022 के हिस्से के रूप में किया गया है। यह सम्मेलन 10-12 जनवरी को गांधीनगर में होने वाला था लेकिन कोविड-19 के मामले फिर से बढऩे की वजह से इसे स्थगित कर दिया गया है।

Rashifal

%d bloggers like this: