तमिलनाडु विधानसभा ने नीट विरोधी विधेयक फिर से पारित किया

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on reddit
Share on pinterest

चेन्नई। तमिलनाडु विधानसभा ने राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) विरोधी विधेयक आठ फरवरी को फिर से पारित कर दिया, जिसे राज्य के राज्यपाल आर एन रवि ने कुछ दिन पहले लौटा दिया था। सत्तारूढ़ द्रमुक और मुख्य विपक्षी दल अन्ना द्रमुक ने द्रविड़ विचारधारा के आधार पर इस परीक्षा के विरोध का संकल्प लिया।  मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने नीट को मारक परीक्षा बताया और कहा कि उन्हें लगता है कि राज्यपाल फिर से पारित किए गए विधेयक को बिना किसी देरी के अब राष्ट्रपति के पास उनकी मंजूरी के लिए भेजेंगे। उन्होंने कहा, राष्ट्रपति के पास इसे भेजना राज्यपाल का संवैधानिक कर्तव्य है। मुझे उम्मीद है कि राज्यपाल कम से कम अब इस कर्तव्य का पालन करेंगे। मुख्यमंत्री ने विधेयक को वापस लौटाने को लेकर राज्यपाल पर निशाना साधा और कहा कि इसने केंद्र-राज्य संबंधों पर सवाल खड़े कर दिए हैं। उन्होंने पूछा कि क्या नीति निर्णय पर आधारित विधेयक को वापस लौटाने का राज्यपाल का कृत्य लोकतंत्र के सिद्धांत के खिलाफ नहीं जाता?

Rashifal

%d bloggers like this: