दक्षिण अफ्रीका ने भारत को सात विकेट से हराया, श्रृंखला में 2-0 की अजेय बढ़त बन

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on reddit
Share on pinterest

पार्ल। सलामी बल्लेबाज यानेमन मलान की 91 रन की पारी और पहले विकेट के लिए क्विंटन डिकॉक (78) के साथ 132 रन की साझेदारी के दम पर दक्षिण अफ्रीका ने तीन मैचों की श्रृंखला के दूसरे एकदिवसीय में भारत को सात विकेट से हराकर 2-0 की अजेय बढ़त कायम कर ली। मलान ने 108 गेंद की पारी में आठ चौके और एक छक्का जड़ा। उन्होंने डिकॉक के साथ शतकीय साझेदारी करने के बाद कप्तान तेम्बा बावुमा (35) के साथ दूसरे विकेट के लिए 80 रन जोड़े। भारत ने ऋषभ पंत की करियर की सर्वश्रेष्ठ 85 रन (71 गेंद) से पहले बल्लेबाजी करते हुए छह विकेट पर 287 रन बनाए। दक्षिण अफ्रीका ने 11 गेंद शेष रहते तीन विकेट के नुकसान पर लक्ष्य हासिल कर लिया। लक्ष्य का पीछा करते हुए क्विंटन डिकॉक ने एक बार फिर दक्षिण अफ्रीका को आक्रामक शुरुआत दिलाई। उन्होंने पहले ओवर में जसप्रीत बुमराह (37 रन पर एक विकेट) के खिलाफ चौका और फिर दूसरे ओवर में भुवनेश्वर कुमार के खिलाफ दो चौके और एक छक्का लगाकर अपने इरादे जाहिर कर दिए थे। भुवनेश्वर ने अपने पहले ओवर में ही 16 रन लुटा दिए।
रविचंद्रन अश्विन ने पारी का छठा ओवर मेडन डाला और फिर अपने दूसरे ओवर में डिकॉक को फंसाने में सफल हुए लेकिन विकेटकीपर ऋषभ पंत ने स्टंपिंग का आसान मौका छोड़ दिया। डिकॉक ने अगली ही गेंद पर छक्का लगाकर भारतीय टीम के जले पर नमक छिड़का।
डिकॉक ने 12वें ओवर में पहली गेंद पर एक रन लेकर 36 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया। उन्होंने 16वें ओवर में भुवनेश्वर के खिलाफ चौका और फिर अपना तीसरा छक्का लगाकर टीम के रनों का शतक पूरा किया। इस बीच संभल कर बल्लेबाजी कर रहे मलान ने 22वें ओवर में शारदुल ठाकुर (35 रन पर एक विकेट) की गेंद पर एक रन एक रन लेकर 66 गेंद में करियर का तीसरा अर्धशतक पूरा किया।
ठाकुर ने अगली ही गेंद पर डिकॉक को पगबाधा कर भारत को पहली सफलता दिलाई। मैदानी अंपायर ने भारत की अपील को नकार दिया थ लेकिन रिव्यू के बाद उन्हें अपना फैसला बदलना पड़ा। डिकॉक ने 66 गेंद में सात चौके और तीन छक्के की मदद से 78 रन बनाए और मैन ऑफ द मैच रहे। उन्होंने विकेट के पीछे भी शानदार प्रदर्शन करते हुए भारतीय पारी के दौरान वेंकटेश अय्यर को स्टंप किया था। इस विकेट के गिरने का दक्षिण अफ्रीका पर कोई असर नहीं पड़ा। मलान और उनका साथ देने आए कप्तान तेम्बा बावुमा ने एक-एक, दो-दो रन के लिए दौड़ने के साथ बीच-बीच में गेंद को सीमा रेखा के पास भेजना जारी रखा। दोनों ने 34 वें ओवर में शारदुल ठाकुर के खिलाफ तीन चौकों की मदद से 14 रन बनाए। इसी ओवर में टीम के 200 रन पूरे हुए।
भारतीय गेंदबाज एक बार फिर प्रभावित करने में नाकाम रहे। भुवनेश्वर ने आठ ओवर में 67 जबकि अश्विन ने 10 ओवर में 68 रन लुटाए। इससे पहले टॉस जीतने के बाद पंत और कप्तान केएल राहुल (79 गेंदों में 55 रन) ने 19 ओवर से भी कम में 115 रन की साझेदारी की। इस दौरान पंत ज्यादा आक्रामक रहे और उन्होंने मध्यम गति के गेंदबाजों और स्पिनरों के खिलाफ सहजता से रन बनाए। दक्षिण अफ्रीका ने हालांकि बीच के ओवरों में दोनों के विकेट जल्दी जल्दी लेकर बोलैंड पार्क में वापसी की क्योंकि नए बल्लेबाजों के लिए रन बनाना आसान नहीं था। श्रेयस अय्यर (14 गेंदों में 11 रन) और वेंकटेश अय्यर (33 गेंदों में 22 रन) रन बनाने के लिए जूझते दिखे। पंत हालांकि एकदिवसीय अपना पहला शतक लगाने से चूक गए लेकिन पिछले मैच में नाबाद अर्धशतक लगाने वाले ठाकुर (38 गेंद में नाबाद 40) ने अश्विन (24 गेंद में नाबाद 25 रन) के साथ 6.1 ओवर में 48 रन की अटूट साझेदारी कर टीम को प्रतिस्पर्धी स्कोर तक पहुंचाया।

%d bloggers like this: