नियम बदला : पांच दिन का होगा पृथकवास, टीम के सदस्यों की संख्या 30 तक सीमित

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on reddit
Share on pinterest

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) कोविड-19 महामारी के बीच नौ अलग जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में 38 टीम के बीच 17 फरवरी से रणजी ट्रॉफी के आयोजन की तैयारी कर रहा है जिससे पहले सभी को पांच दिवसीय पृथकवास से गुजरना होगा। टीम के सदस्यों की संख्या भी 30 तक सीमित की गई है जिसमें सहयोगी स्टाफ भी शामिल है।            बीसीसीआई ने इससे पहले घोषणा की थी कि महामारी के कारण रणजी ट्रॉफी का आयोजन दो साल बाद दो चरण में किया जाएगा जो आईपीएल से पहले और बाद में होंगे।

आठ फरवरी को बोर्ड ने नौ मेजबान संघों के लिए टूर्नामेंट की मेजबानी को लेकर दिशानिर्देश जारी किए।

दिशानिर्देशों के अनुसार, 20 खिलाड़ी मैच फीस के पात्र होंगे (अंतिम एकादश में शामिल खिलाड़ियों को शत प्रतिशत जबकि बाकी बचे नौ खिलाड़ियों को 50 प्रतिशत मैच फीस)। दिशानिर्देशों के अनुसार टीम अपने साथ दो कोविड रिजर्व खिलाड़ी रख सकती है।

सभी टीम अपने संबंधित आयोजन स्थलों पर 10 फरवरी को पहुंचेंगी जिसके बाद खिलाड़ियों को पांच दिवसीय अनिवार्य पृथकवास से गुजरना होगा। इस दौरान दूसरे और पांचवें दिन आरपी-पीसीआर परीक्षण होंगे। टीम के पास अभ्यास के लिए 15 और 16 फरवरी को दो दिन का समय होगा।

Rashifal

%d bloggers like this: