पई, किरण मजूमदार-शॉ एनएसई मामले में आध्यात्मिक गुरु के प्रभाव को लेकर आपस में भिड़े

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on reddit
Share on pinterest

नई दिल्ली। चित्रा रामकृष्ण के नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) प्रमुख रहते उनके ऊपर अज्ञात हिमालय में रहने वाले योगी के प्रभाव की बात को लेकर सोशल मीडिया पर एनएसई निदेशक मंडल के पूर्व सदस्य टी वी मोहन दास पई और बायोकॉन की कार्यकारी चेयरपर्सन किरण मजूमदार-शॉ के बीच तीखी नोक-झोंक हुई है। शॉ ने मामले में आश्चर्य जताते हुए कहा कि क्या एक्सचेंज में गड़बड़ियों पर अंकुश लगाने की कोई व्यवस्था नहीं थी।

क्या है मामला

सेबी ने अपने आदेश में अन्य बातों के अलावा यह कहा है कि एनएसई की पूर्व प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी चित्रा रामकृष्ण पर हिमालय की पहाड़ों में रहने वाले आध्यात्मिक गुरु का प्रभाव था।

सेबी के आदेश से जुड़े एक लेख का लिंक साझा करते हुए मजूमदार-शॉ ने ट्विटर पर लिखा, एक योगी देश के बड़े शेयर बाजार को कठपुतली की तरह चलाता रहा: नियामक। वैश्विक स्तर के शेयर बाजार कहे जाने वाले एनएसई में संचालन व्यवस्था की खामियों को देखकर आहत हूं…क्या वहां गड़बड़ियों पर अंकुश लगाने की कोई व्यवस्था नहीं थी? सेबी के 11 फरवरी के आदेश के बाद ट्वीट 13 फरवरी को किया गया।

मजूमदार-शॉ के ट्वीट के जवाब में पई ने 14 फरवरी को लिखा कि किसी को झूठ फैलाना बंद कर देना चाहिए और कोई योगी एक्सचेंज नहीं चलाता। उन्होंने लिखा, कोई योगी एनएसई को नहीं चलाता। झूठ फैलाना बंद करें। क्या आपको वाकई में लगता है कि दुनिया के बड़े शेयर बाजारों में से एक अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी से युक्त एनएसई को कोई संदिग्ध योगी चला सकता है? आप उन सभी महान कर्मचारियों का अहित कर रही हैं जिन्होंने 24 घंटे एनएसई इंडिया में काम किया।

मजूमदार-शॉ ने 15 फरवरी को पई के ट्वीट का जवाब दिया और आश्चर्य जताया कि क्या सेबी की रिपोर्ट कबाड़ में फेंक देना चाहिए। उन्होंने कहा, तो हमें सेबी रिपोर्ट में कबाड़ में फेंक देना चाहिए। एनएसई के कर्मचारी निर्दाेष थे। लेकिन अगर वास्तव में चित्रा रामकृष्ण ने किसी बाहरी व्यक्ति के साथ साठगांठ की है तो यह खतरनाक रूप से चौंकाने वाली बात है।

सेबी के आदेश के अनुसार, अप्रैल, 2013 से दिसंबर, 2016 तक एनएसई की एमडी एवं सीईओ पद पर रहीं रामकृष्ण कथित तौर पर हिमालय में रहने वाले इस योगी को शिरोमणि कहकर बुलाती रही हैं। इसके बारे में एनएसई के पूर्व प्रमुख का दावा है कि वह हिमालय की पहाड़ियों में रहते हैं और 20 साल से व्यक्तिगत और पेशेवर मामले में सलाह देते रहे हैं।

Rashifal

%d bloggers like this: