प्रमाणित हरित इमारतों के मामले में भारत तीसरे स्थान पर पहुंचा

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on reddit
Share on pinterest

नई दिल्ली। यूएस ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल (यूएसजीबीसी) की सालाना सूची में भारत 2021 में एलईईडी प्रमाणित हरित इमारतों के मामले में दुनिया में तीसरे स्थान पर है। इस सूची में पहले स्थान पर चीन और दूसरे पर कनाडा है। अमेरिका को इस सूची में शामिल नहीं किया गया है लेकिन वह एलईईडी के लिए विश्व का सबसे बड़ा बाजार बना हुआ है। एलईईडी प्रमाणन का मतलब ऊर्जा एवं पर्यावरण अनुकूल डिजाइन के मामले में अगुआ रहना है। यह व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली हरित इमारत रेटिंग प्रणाली है। लगभग सभी प्रकार की इमारतों के लिए उपलब्ध एलईईडी स्वास्थ्य अनुकूल, प्रभावी और किफायती हरित इमारतों के लिए रूपरेखा देती है।

यूएसजीबीसी ने बृहस्पतिवार को एक बयान में कहा, एलईईडी के लिए 2021 में शीर्ष दस देशों और क्षेत्रों की सालाना सूची में भारत दुनिया में तीसरे स्थान पर है। इस रैंकिंग में अमेरिका के अलावा उन देशों एवं क्षेत्रों को जगह दी जाती है जो स्वास्थ्य अनुरूप, टिकाऊ और मजबूत इमारत डिजाइन, निर्माण तथा परिचालन के लिए उल्लेखनीय कदम उठा रहे हैं। इसके मुताबिक, भारत ने एलईईडी में कुल 146 इमारतों और स्थानों को प्रमाणित किया जो करीब 28 लाख सकल क्षेत्र वर्गमीटर (जीएसएम) में हैं। यह 2020 में भारत में एलईईडी प्रमाणित क्षेत्र की तुलना में करीब 10 फीसदी अधिक है। सूची में 1.4 करोड़ से अधिक जीएसएम के साथ चीन पहले स्थान पर और 32 लाख जीएसएम से अधिक क्षेत्र के साथ कनाडा दूसरे स्थान पर है।

%d bloggers like this: