भारतीय कंपनी की परिभाषा बदलने की मांग, प्रधानमंत्री को पत्र लिखा

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on reddit
Share on pinterest

ई दिल्ली। कंसल्टिंग इंजीनियर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीईएआई) के पूर्व अध्यक्ष के के कपिला ने देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कंपनी अधिनियम में भारतीय कंपनी की परिभाषा बदलने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया है। कपिला ने प्रधानमंत्री को लिखे एक पत्र में कहा है कि भारतीय कंपनी की परिभाषा को बदलना निहायत ही जरूरी हो गया है। उन्होंने कहा, वर्तमान में भारत में पंजीकृत और यहां करों का भुगतान करने वाली किसी भी कंपनी को भारतीय कंपनी माना जाता है। लेकिन इसमें खामी यह है कि यह कंपनी किसी चीनी, अमेरिकी या ब्रिटिश कंपनी की पूर्ण-स्वामित्व वाली इकाई भी हो सकती है। इस परिभाषा में फौरन बदलाव करने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि विदेशी कंपनियां कंपनी अधिनियम के इस प्रावधान का खुलकर दुरुपयोग कर रही हैं और भारतीय कंपनियों के लिए चिह्नित लाभ उठा रही हैं। उन्होंने कहा कि इस स्थिति में भारतीय कंपनी की परिभाषा बदलना निहायत ही जरूरी है ताकि आत्मनिर्भर भारत के लाभ विदेशी मूल की कंपनियों को न मिल पाए।

%d bloggers like this: