वैश्विक तौर पर सरकार, मीडिया में भरोसा कम हुआ

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on reddit
Share on pinterest

फर्जी खबर को लेकर चिंता सर्वकालिक उच्च स्तर पर

दावोस। पिछले एक साल में कोविड-19 के बीच सरकार और मीडिया में लोगों का विश्वास कम हुआ है जबकि फर्जी खबरों को लेकर चिंताएं सर्वकालिक उच्च स्तर पर हैं। एक वैश्विक सर्वेक्षण में 18 जनवरी को यह जानकारी दी गई है। एडेलमन ट्रस्ट बारोमीटर की सालाना रिपोर्ट हर साल विश्व आर्थिक मंच के दावोस शिखर सम्मेलन के दौरान जारी की जाती है। इसमें यह भी दिखाया गया है कि सबसे विश्वस्त के तौर पर व्यवसाय ने सरकार का स्थान ले लिया है। सरकार तथा मीडिया दूसरे और तीसरे स्थान पर आ गए हैं।    अध्ययन के मुताबिक, वैश्विक तौर पर 76 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि वे फर्जी सूचना या खबर का हथियार के रूप में इस्तेमाल किए जाने को लेकर चिंतित हैं। इस सूची में 84 प्रतिशत के साथ स्पेन शीर्ष पर है जबकि भारत 82 प्रतिशत के साथ पांचवें स्थान पर है। नीदरलैंड, जापान, फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी के उत्तरदाता फर्जी खबरों को लेकर कम चिंतित लगे। लोगों के बीच एनजीओ, व्यवसायों, सरकारों और मीडिया को लेकर औसत प्रतिशत में चीन शीर्ष पर है जबकि भारत चौथे स्थान पर और रूस निचले पायदान पर है।

भारत टॉप 5 में

भारत आर्थिक आशावाद के मामले में भी शीर्ष पांच में है। नियोक्ता में भरोसे को लेकर भारत इंडोनेशिया (91 प्रतिशत) के बाद दूसरे स्थान (90 प्रतिशत) पर है जबकि चीन (89 प्रतिशत) तीसरे स्थान पर है। कोरिया सबसे अंतिम स्थान पर आया है। भारत में व्यवसाय, सरकारों और मीडिया में विश्वास कम हुआ है जबकि एनजीओ के संबंध में यह अपरिवर्तित है। यह सर्वेक्षण 28 देशों में किया गया जिनमें से 23 में व्यवसाय सरकार से अधिक विश्वसनीय पाए गए।

Rashifal

%d bloggers like this: