सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के लिए 3,980 करोड़ रुपए आवंटित

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on reddit
Share on pinterest

नई दिल्ली। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 01 फरवरी को वित्त वर्ष 2022-23 में सूचना और प्रसारण मंत्रालय के लिए 3,980.77 करोड़ रुपए के परिव्यय की घोषणा की, जो पिछले साल की तुलना में 90 करोड़ रुपए कम है। सरकार के स्वायत्त निकाय प्रसार भारती को पिछले वित्त वर्ष में आवंटित 2,640.11 करोड़ रुपए की राशि को घटाकर 2,555.29 करोड़ रुपए कर दिया गया है। अन्य स्वायत्त निकायों में, केवल भारतीय प्रेस परिषद का बजट पिछले वित्तीय वर्ष के 20 करोड़ रुपए से बढ़ाकर इस बार 27 करोड़ रुपए कर दिया गया है।

 

भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई), भारतीय जन संचार संस्थान (आईआईएमसी), भारतीय बाल फिल्म सोसाइटी और सत्यजीत रे फिल्म और टेलीविजन संस्थान के बजट आवंटन में कमी देखी गई। आईआईएमसी के लिए, सरकार ने 2021-22 में 52 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है, जो पिछले वित्त वर्ष में 65 करोड़ रुपए था। एफटीआईआई का बजट पिछले साल के 58.48 करोड़ रुपए से कम करके इस साल 55.39 करोड़ रुपए कर दिया गया है। बजट में सामाजिक सेवा मद के तहत प्रसारण के लिए आवंटन 2,921.11 करोड़ रुपए से घटाकर 2,839.29 करोड़ रुपए कर दिया गया है। सूचना और प्रचार के लिए बजट को 971.26 करोड़ रुपए से घटाकर 942.04 करोड़ रुपए कर दिया गया है।

%d bloggers like this: